A Career in Interior Designer in 2024-25 | इंटीरियर डिजाइनर के रूप में करियर

A Career in Interior Designer : इंटीरियर डिजाइनर के रूप में करियर बनाने के बारे में सोच रहे हैं? जानिए जरूरी स्किल्स, भविष्य के अवसर, वेतन पैकेज और शिक्षा. साथ ही जानें अपना पोर्टफोलियो बनाने के बारे में और इंटीरियर डिजाइन के क्षेत्र में सफल होने के लिए क्या करें.

Table of Contents

इंटीरियर डिजाइनर के रूप में करियर (A Career in Interior Designer)

आपके आस-पास का वातावरण कैसा दिखता है, यह आपके मूड और कार्यक्षमता को प्रभावित करता है. यही कारण है कि इंटीरियर डिजाइन का क्षेत्र इतना महत्वपूर्ण है. एक इंटीरियर डिजाइनर के रूप में, आप न सिर्फ सुंदर जगह बनाते हैं, बल्कि लोगों के रहने और काम करने के तरीके को भी आकार देते हैं.

कौन होते हैं इंटीरियर डिज़ाइनर (Who is an Interior Designer?)

एक इंटीरियर डिजाइनर वह होता है जो घरों, दफ्तरों, रेस्टोरेंट्स, और अन्य स्थानों के लिए आंतरिक सजावट की योजना बनाता और कार्यान्वित करता है. वे फर्नीचर, रंग, लाइटिंग, और अन्य तत्वों का उपयोग करके ऐसे स्थान बनाते हैं जो न केवल कार्यात्मक होते हैं बल्कि मनभावन भी होते हैं | इंटीरियर डिज़ाइन) किसी इमारत के अंदरूनी हिस्से को रचनात्मक तरीके से बेहतर बनाना है ताकि वहां रहने या काम करने वाले लोगों के लिए यह स्वस्थ और खूबसूरत लगे. इसमें कलात्मक कौशल और वैज्ञानिक ज्ञान को मिलाकर उस जगह का बेहतर माहौल बनाया जाता है.

इंटीरियर डिज़ाइनर ऐसे कार्यात्मक और आकर्षक स्थान बनाने का काम करते हैं जो उनके ग्राहकों की ज़रूरतों को पूरा करें और साथ ही साथ निर्माण नियमों का भी पालन करें. आंतरिक डिजाइन का इस्तेमाल घरों, दफ्तरों, होटलों, रेस्टोरेंटों, अस्पतालों और स्कूलों सहित कई तरह की जगहों के लिए किया जा सकता है |

इमारतों को बनाने और उनकी रूपरेखा तैयार करने में इंटीरियर डिज़ाइनर अहम भूमिका निभाते हैं. वे आर्किटेक्ट (वास्तुविद), इंजीनियरों और ठेकेदारों के साथ मिलकर काम करते हैं ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि इमारत का भीतरी हिस्सा कार्यात्मक, सुरक्षित और आकर्षक हो. वे उन चीजों, फिनिशिंग और फर्नीचर का चुनाव करते हैं जिनका इस्तेमाल इमारत के अंदर किया जाएगा. साथ ही वे लेआउट, फ्लोर प्लान और 3D मॉडल भी बनाते हैं ताकि उनके ग्राहक अंतिम डिज़ाइन को अच्छी तरह से समझ सकें |

A Career in Interior Designer को संक्षेप में पढ़ें

इंटीरियर डिजाइनर के रूप में करियर

आवश्यक कौशल (Required Skills)

  • रचनात्मक सोच (Creative Thinking): डिजाइनरों को नए विचारों के साथ आने और समस्याओं का रचनात्मक समाधान खोजने में सक्षम होना चाहिए.
  • समस्या समाधान (Problem-Solving): किसी भी प्रोजेक्ट में अप्रत्याशित चुनौतियां आ सकती हैं. इंटीरियर डिजाइनरों को इनका समाधान खोजने में सक्षम होना चाहिए.
  • संचार कौशल (Communication Skills): डिजाइनरों को ग्राहकों के साथ उनकी आवश्यकताओं को समझने और अपने विचारों को स्पष्ट रूप से व्यक्त करने में सक्षम होना चाहिए.
  • समय प्रबंधन (Time Management): कई परियोजनाओं को संभालने और समय सीमा को पूरा करने के लिए संगठनात्मक कौशल आवश्यक हैं.
  • कम्प्यूटर प्रवीणता (Computer Proficiency): अधिकांश इंटीरियर डिजाइन कार्य में कंप्यूटर-एडेड डिज़ाइन (CAD) सॉफ़्टवेयर का उपयोग शामिल होता है.

भविष्य में आप क्या बन सकते हैं? (What can you become in the future?)

एक इंटीरियर डिज़ाइन डिग्री आपको विभिन्न क्षेत्रों में करियर के अवसर प्रदान करती है. आप बन सकते हैं:

  • स्वतंत्र इंटीरियर डिजाइनर (Freelance Interior Designer)
  • वाणिज्यिक इंटीरियर डिजाइनर (Commercial Interior Designer)
  • आवासीय इंटीरियर डिजाइनर (Residential Interior Designer)
  • इवेंट डिज़ाइनर (Event Designer)
  • प्रदर्शनी डिज़ाइनर (Exhibition Designer)
  1. आंतरिक और स्थानिक डिज़ाइनर (Interior and Spatial Designer): ये पूरे अंदरूनी हिस्से को नया रूप देने का काम करते हैं. फर्नीचर, रंग, रोशनी, दीवारों में बदलाव, फिक्स्चर और फिटिंग्स – ये सब इन्हीं के जिम्मे होते हैं. ये घरों, दफ्तरों, या दुकानों जैसे किसी भी जगह पर काम कर सकते हैं.
  2. रोशनी डिज़ाइनर (Lighting Designer): ये सिर्फ रोशनी और उसके आसपास के माहौल पर पड़ने वाले असर पर ध्यान देते हैं. इनका काम ये तय करना होता है कि दफ्तर, घर या दुकान में किस तरह की रोशनी का इस्तेमाल किया जाए.
  3. विजुअल मर्चेंडाइजर (Visual Merchandiser): ये दुकानों में सामानों को दिलचस्प और नए तरीके से सजाने का काम करते हैं. ये दुकानों को आकर्षक और लुभावना बनाते हैं.
  4. निर्माण डिज़ाइनर/कला निर्देशक (Production Designer/Art Director): ये मनोरंजन उद्योग में काम करते हैं और अपनी रचनात्मकता से निर्देशक के विचारों को साकार करने का जिम्मा लेते हैं. ये फिल्मों और टीवी शोज़ के सेट डिजाइन करते हैं.
  5. प्रदर्शनी डिज़ाइनर (Exhibition Designer): ये प्रदर्शनियों का लेआउट और डिजाइन तैयार करते हैं. ये तय करते हैं कि कलाकृतियां, चीजें और इंटरेक्टिव डिस्प्ले कहां लगाए जाएं ताकि प्रदर्शनी घूमने वाले लोगों के लिए रोचक और आसान हो. उनका लक्ष्य प्रदर्शनी को लोगों के लिए मनोरंजक बनाना होता है.
  6. आंतरिक स्थान सलाहकार (Interior Space Consultant): ये गहन विश्लेषण के जरिए सलाह देते हैं कि किसी जगह का इस्तेमाल कैसे किया जाए. ये दूसरे इंटीरियर डिज़ाइनरों के साथ मिलकर काम करते हैं.
  7. घर स्टाइलिस्ट (Home Stylist): ये किसी घर के कमरे या किसी इमारत के अंदर किसी खास जगह को सजाने का काम करते हैं. ये फर्नीचर या बर्तन जैसी चीजों को फोटोशूट के लिए भी स्टाइल कर सकते हैं. इनका मकसद सबसे खूबसूरत सजावट तैयार करना होता है.
  8. शिक्षक/प्रोफेसर (Teacher/Professor): इंटीरियर डिज़ाइनर डिजाइन संस्थानों या कॉलेजों में पढ़ाकर भी नई पीढ़ी को तैयार कर सकते हैं |

वेतन पैकेज (Job Package)

एक इंटीरियर डिजाइनर का वेतन उनके अनुभव, कौशल और स्थान के आधार पर भिन्न हो सकता है. शुरुआती तौर पर, एक फ्रेशर ₹2 लाख से ₹3 लाख प्रति वर्ष कमा सकता है. अनुभवी पेशेवर ₹7 लाख से ₹9 लाख प्रति वर्ष कमा सकते हैं.

आवश्यक शैक्षणिक यात्रा (Required Educational Journey)

भारत में, अधिकांश इंटीरियर डिजाइनिंग जॉब्स के लिए स्नातक डिग्री (Bachelor’s Degree) की आवश्यकता होती है. आप इनमें से कोई कोर्स कर सकते हैं |

डिग्री (Degrees)

  • बैचलर ऑफ डिज़ाइन इन इंटीरियर डिजाइन (B.Des. Interior Design): ये फुल-टाइम डिग्री कोर्स है जिसमें आपको इंटीरियर डिजाइन के सिद्धांतों और व्यावहारिक पहलुओं दोनों की शिक्षा दी जाती है.
  • बैचलर ऑफ साइंस इन इंटीरियर डिजाइन (B.Sc in Interior Design): ये भी फुल-टाइम डिग्री है, लेकिन इसमें साइंस के नज़रिए से इंटीरियर डिजाइन को पढ़ाया जाता है, जैसे कि रंग, प्रकाश और सामग्री का विज्ञान.
  • बैचलर ऑफ आर्ट्स इन इंटीरियर डिजाइन (B.A. in Interior Design): इस कोर्स में इतिहास, कला और संस्कृति के साथ-साथ इंटीरियर डिजाइन के बारे में पढ़ाया जाता है.
  • बैचलर ऑफ फाइन आर्ट्स इन इंटीरियर डिजाइन (BFA in Interior Design): ये कोर्स क्रिएटिव और आर्टिस्टिक स्किल्स डेवलप करने पर ज़ोर देता है.

पोस्ट-ग्रेजुएशन (Post-Graduation)

  • मास्टर ऑफ डिज़ाइन इन इंटीरियर डिजाइन (M.Des. in Interior Design): ये डिग्री किसी खास क्षेत्र में स्पेशलाइजेशन करने के लिए ली जाती है, जैसे कि हॉस्पिटैलिटी डिज़ाइन या रिटेल डिज़ाइन.
  • मास्टर ऑफ साइंस इन इंटीरियर डिजाइन (M.Sc. in Interior Design): ये डिग्री रिसर्च और एडवांस तकनीकों पर फोकस करती है.

डिप्लोमा/प्रमाण पत्र (Diploma/Certifications)

  • डिप्लोमा इन इंटीरियर डिज़ाइनिंग: ये एक छोटा कोर्स होता है जो जल्दी से इंटीरियर डिज़ाइन की बुनियादी बातें सीखने का मौका देता है.
  • पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन इंटीरियर डिज़ाइनिंग: ये डिग्री पूरी हो चुकी ग्रेजुएशन के बाद किसी खास क्षेत्र में स्पेशलाइजेशन के लिए किया जाता है.

    कॉलेज और विश्वविद्यालय जो कोर्स प्रदान करते हैं (Colleges & Universities offering the Course)

    भारत में कई कॉलेज और विश्वविद्यालय इंटीरियर डिजाइनिंग कार्यक्रम प्रदान करते हैं. यहाँ कुछ प्रतिष्ठित संस्थानों के नाम हैं: –

    • जगन नाथ इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज, नई दिल्ली (Jagan Nath Institute of Management Studies, New Delhi): यह संस्थान मैनेजमेंट की पढ़ाई के लिए जाना जाता है, लेकिन यहां इंटीरियर डिजाइन में भी कोर्स कराए जाते हैं – www.justdial.com
    • Jagan Nath Institute of Management Studies, New Delhi इंडियन स्कूल ऑफ डिजाइन एंड इनोवेशन, मुंबई (Indian School of Design and Innovation, Mumbai): यह डिजाइन के क्षेत्र में एक प्रसिद्ध संस्थान है और यहां इंटीरियर डिजाइन में भी शानदार कोर्स उपलब्ध हैं – www.edarabia.com
    • Indian School of Design and Innovation, Mumbai सीईपीटी यूनिवर्सिटी, गांधीनगर (CEPT University, Gandhi Nagar): यह यूनिवर्सिटी आर्किटेक्चर और प्लानिंग के लिए जानी जाती है, लेकिन साथ ही वे इंटीरियर डिजाइन में भी बेहतरीन शिक्षा प्रदान करते हैं –portfolio.cept.ac.in
    • CEPT University, Gandhi Nagar सर जे जे स्कूल ऑफ आर्ट, मुंबई (Sir JJ School of Art, Mumbai): यह भारत का सबसे पुराना आर्ट स्कूल है और यहां आप कलात्मक पक्ष से भरपूर इंटीरियर डिजाइन की शिक्षा प्राप्त कर सकते हैं – en.wikipedia.org
    • Sir JJ School of Art, Mumbai जे डी इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी, विभिन्न स्थान (J D institute of fashion technology, Multiple locations): यह फैशन डिजाइन का जाना माना संस्थान है, लेकिन कुछ स्थानों पर वे इंटीरियर डिजाइन में भी कोर्स कराते हैं. इनकी ब्रांचेस कई शहरों में हैं, तो आप अपने आसपास पता कर सकते हैं – www.shiksha.com
    • J D institute of fashion technology वोग फैशन इंस्टीट्यूट, बैंगलोर (Vogue Fashion Institute, Bangalore): यह संस्थान फैशन डिजाइन पर ही ज़्यादा फोकस करता है, लेकिन हो सकता है कि भविष्य में वे इंटीरियर डिजाइन के कोर्सेज भी शुरू करें – collegedunia.com
    • Vogue Fashion Institute, Bangalore नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन डिजाइनिंग, नई दिल्ली (National Institute of Fashion Designing, New Delhi): फैशन डिजाइन का यह जाना माना संस्थान सिर्फ फैशन पर ही ध्यान देता है, इंटीरियर डिजाइन के कोर्स यहां नहीं कराए जाते हैं – collegedunia.com
    • National Institute of Fashion Designing, New Delhi एमआईटी – इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन (MIT – Institute of Design): यह संस्थान पुणे में स्थित है और वे डिजाइन के विभिन्न क्षेत्रों में शानदार शिक्षा प्रदान करते हैं, जिनमें इंटीरियर डिजाइन भी शामिल है |

    पोर्टफोलियो बनाना (Building a Portfolio)

    एक मजबूत पोर्टफोलियो किसी भी इंटीरियर डिजाइनर के लिए महत्वपूर्ण है. यह संभावित नियोक्ताओं या ग्राहकों को आपके कौशल और अनुभव का प्रदर्शन करने का एक शानदार तरीका है. अपने पोर्टफोलियो में शामिल करें:

    • आपके सर्वश्रेष्ठ कार्यों के चित्र या रेंडरिंग
    • फर्श प्लान और विस्तृत चित्र
    • ग्राहक प्रशंसापत्र (यदि आपके पास है)

    आप एक ऑनलाइन पोर्टफोलियो वेबसाइट भी बना सकते हैं.

    अनुभव प्राप्त करना (Gaining Experience)

    अनुभव किसी भी उद्योग में सफल होने के लिए महत्वपूर्ण है, और इंटीरियर डिजाइन कोई अपवाद नहीं है. कुछ तरीके जिनसे आप अनुभव प्राप्त कर सकते हैं:

    • इंटर्नशिप करना
    • किसी डिज़ाइन फर्म में शुरुआती स्तर की नौकरी करना
    • स्वयंसेवा करना या व्यक्तिगत परियोजनाओं पर काम करना

    नेटवर्किंग (Networking)

    इंटीरियर डिजाइन उद्योग में नेटवर्किंग बहुत महत्वपूर्ण है. जितना अधिक आप लोगों को जानते हैं, उतने ही अधिक अवसर आपके सामने आएंगे. नेटवर्किंग के कुछ तरीके:

    • उद्योग के कार्यक्रमों में भाग लेना
    • ऑनलाइन डिजाइन समुदायों में शामिल होना
    • अन्य डिजाइनरों और पेशेवरों से जुड़ना

    इंटीरियर डिजाइनर के रूप में करियर के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न ( FAQs )

    1. इंटीरियर डिज़ाइनर कौन होता है? (Who is an Interior Designer?)

    एक इंटीरियर डिज़ाइनर वह पेशेवर होता है जो घरों, दफ्तरों, रेस्टोरेंट्स, और अन्य स्थानों के लिए आंतरिक सजावट की योजना बनाता और कार्यान्वित करता है. वे फर्नीचर, रंग, लाइटिंग और अन्य तत्वों का उपयोग कर ऐसे स्थान बनाते हैं जो आकर्षक होने के साथ-साथ कार्यात्मक भी हों.

    2. इस क्षेत्र में सफल होने के लिए किन कौशलों की आवश्यकता होती है? (What skills are required to succeed in this field?)

    रचनात्मक सोच, समस्या समाधान, संचार कौशल, समय प्रबंधन और कंप्यूटर प्रवीणता इस क्षेत्र में सफल होने के लिए आवश्यक महत्वपूर्ण कौशल हैं.

    3. भविष्य में इंटीरियर डिज़ाइन की डिग्री मुझे किन कैरियर विकल्पों की ओर ले जा सकती है? (What career options can an interior design degree lead to in the future?)

    यह डिग्री आपको विभिन्न क्षेत्रों में अवसर प्रदान करती है, जैसे स्वतंत्र इंटीरियर डिज़ाइनर, वाणिज्यिक या आवासीय डिज़ाइनर, इवेंट डिज़ाइनर, प्रदर्शनी डिज़ाइनर, या फिल्मों/थिएटर के लिए सेट डिज़ाइनर.

    4. इस क्षेत्र में वेतन पैकेज कैसा है? (What is the salary package in this field?)

    वेतन अनुभव, कौशल और स्थान के आधार पर भिन्न होता है. शुरुआती तौर पर ₹2-3 लाख प्रति वर्ष कमाया जा सकता है, जबकि अनुभवी पेशेवर ₹7-9 लाख तक कमा सकते हैं.

    5. इंटीरियर डिज़ाइनर बनने के लिए क्या शिक्षा आवश्यक है? (What education is required to become an interior designer?)

    भारत में अधिकांश नौकरियों के लिए स्नातक डिग्री (बैचलर ऑफ इंटीरियर डिज़ाइन या बैचलर ऑफ आर्ट्स इन इंटीरियर डिज़ाइन) की आवश्यकता होती है. कुछ कॉलेज डिप्लोमा भी देते हैं, लेकिन डिग्री धारकों को ज्यादा अवसर मिलते हैं.

    6. कौन से कॉलेज और विश्वविद्यालय इंटीरियर डिज़ाइनिंग कार्यक्रम प्रदान करते हैं? (Which colleges and universities offer interior design programs?)

    भारत में कई संस्थान यह कार्यक्रम देते हैं, जिनमें नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिज़ाइन (NID), अहमदाबाद, सरकारी कॉलेज ऑफ आर्ट एंड डिज़ाइन (SCAD), चेन्नई, और जामिया मिलिया इस्लामिया, नई दिल्ली शामिल हैं.

    7. अपने करियर की शुरुआत में सफल होने के लिए क्या करना चाहिए? (What should I do to be successful at the beginning of my career?)

    एक मजबूत पोर्टफोलियो बनाना, इंटर्नशिप करना या किसी डिज़ाइन फर्म में शुरुआती स्तर की नौकरी करना, और उद्योग के कार्यक्रमों में भाग लेकर नेटवर्किंग करना सफलता के लिए महत्वपूर्ण कदम हैं.

    8. क्या कोई अतिरिक्त कौशल सीखने से मुझे फायदा होगा? (Will learning any additional skills benefit me?)

    इंटीरियर डिज़ाइन सॉफ्टवेयर सीखना और इस क्षेत्र में नवीनतम रुझानों से अवगत रहना निश्चित रूप से आपको दूसरों से अलग खड़ा कर सकता है.

    निष्कर्ष (Conclusion)

    मुझे उम्मीद है कि यह जानकारी आपके लिए उपयोगी साबित हुई है।  इंटीरियर डिजाइन एक रचनात्मक और पुरस्कृत करियर विकल्प हो सकता है. यदि आप रचनात्मक हैं, लोगों के साथ काम करना पसंद करते हैं और सुंदर स्थान बनाना चाहते हैं, तो यह आपके लिए सही क्षेत्र हो सकता है. कड़ी मेहनत, लगन और रचनात्मकता के साथ, आप एक सफल इंटीरियर डिजाइनर बन सकते हैं.

    आप इस लेख को कुछ अतिरिक्त जानकारी के साथ और भी मजबूत बना सकते हैं, उदाहरण के लिए:

    • इंटीरियर डिजाइन में विभिन्न शैलियों पर एक अनुभाग
    • इंटीरियर डिजाइन सॉफ्टवेयर के बारे में जानकारी
    • इस क्षेत्र में नवीनतम रुझानों पर एक खंड

    मुझे आशा है कि यह आपके इंटीरियर डिज़ाइनर करियर लेख को पूरा करने में आपकी सहायता करेगा!

    नोट – ऊपर दिए गए लेख में जानकारी आधिकारिक वेबसाइटों से ली गई है। हमारी टीम लगातार आपको सटीक और नवीनतम जानकारी देने के लिए प्रयासरत है। यदि आपको लगता है कि इस लेख में कोई सुधार की आवश्यकता है, तो कृपया हमें संपर्क पृष्ठ पर बताएं। आपकी प्रतिक्रिया हमारे लिए महत्वपूर्ण है और हमें अपनी जानकारी में सुधार करने में मदद करेगी। आप जानते हैं कि आजकल इंटरनेट पर बहुत सी गलत जानकारी फैलाई जाती है। इसलिए, आधिकारिक वेबसाइटों को प्राथमिकता देना महत्वपूर्ण है। एवं सटीक जानकारी के लिए ऑफिसियल वेबसाइट देखे |  धन्यवाद!

    Hello, my name is Tripti Singh, and I am the Author & Manager of scstyojana.com , I'm team member of K2org & I've 5 years+ of expertise and experience in Content creation and digital marketing.

    Sharing Is Caring:

    Leave a Comment